थायराइड का रामबाण इलाज

थायराइड: कारण और घरेलू उपचार

 

थायराइड विकार दुनिया की आम बीमारियों में से एक है, दुनिया में लगभग हर 10 वें व्यक्ति को थायराइड की समस्या है। संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे विकसित देशों में 20 मिलियन (2 करोड़) से अधिक लोग थायरॉयड रोग से पीड़ित हैं। महिलाओं में थायराइड की समस्या आम है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में थायराइड होने की संभावना 8% से 10% अधिक होती है। 8 में से 1 महिला को थायराइड की बीमारी है। भारत में भी थायराइड रोग आम बीमारियों में से एक है, भारत में 42 मिलियन (4.2 करोड़) से अधिक लोगों को किसी न किसी प्रकार का थायराइड विकार है। भारत में 10 में से 1 वयस्क को थायराइड की बीमारी है।

 

थायराइड और थायराइड विकार क्या है?

थायरॉइड हमारे शरीर की ग्रंथियों में से एक है, जो गले के आसपास और सीधे आदम के सेब के नीचे पाई जाती है। थायराइड चयापचय के उत्पादन और मानव शरीर के विकास में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। थायराइड हार्मोन "ट्रायोडोथायरोनिन" (T3) और "थायरोक्सिन" (T4) जारी करता है, और ये हार्मोन रक्त के माध्यम से कोशिकाओं और शरीर के पूरे हिस्से में जाते हैं। थायरॉइड ग्रंथियों का अच्छा कार्य करना हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमारे शरीर के चयापचय को नियंत्रित करता है। (चयापचय खाए गए भोजन और पेय को ऊर्जा में परिवर्तित करता है) थायरॉइड ग्रंथियों का ठीक से काम न करना हमारे शरीर के संतुलन को बिगाड़ देता है।

जब थायरॉयड ग्रंथि शरीर में बड़ी मात्रा में हार्मोन या कम मात्रा में हार्मोन का उत्पादन करती है, जो शरीर में गंभीर समस्याएं पैदा करती है, और थायरॉयड ग्रंथि के इस गलत कार्य को थायरॉयड विकार या थायरॉयड रोग के रूप में जाना जाता है।

 

थायराइड विकार मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं-

  1. हाइपरथायरायडिज्म: जब हमारी थायरॉयड ग्रंथि शरीर में बहुत अधिक हार्मोन का उत्पादन करती है, तो थायरॉयड के इस गलत कार्य को हाइपरथायरायडिज्म कहा जाता है। इस थायराइड विकार की जटिलताओं, कारणों और उपचारों का उल्लेख नीचे एक अन्य खंड में किया गया है।

 

  1. हाइपोथायरायडिज्म: जब थायरॉयड ग्रंथि रक्त में कम हार्मोन छोड़ती है, जिसके माध्यम से शरीर में असंतुलन होता है, तो थायरॉयड ग्रंथियों के इस गलत कार्य को हाइपोथायरायडिज्म के रूप में जाना जाता है। इस थायराइड विकार की जटिलता, कारण और इलाज हाइपरथायरायडिज्म से अलग होगा।

 

 

थायराइड विकार के कारण क्या हैं?

थायराइड विकार के कारण इसके दो प्रकार के विकारों के बीच भिन्न होते हैं-

 

हाइपरथायरायडिज्म के लिए थायराइड विकार के कुछ प्रमुख कारण नीचे बताए गए हैं-

  • स्व - प्रतिरक्षित विकार
  • आयोडीन की अधिक खपत
  • पिट्यूटरी ग्रंथि की खराबी
  • अनुवांशिक
  • थायराइड ग्रंथि में गांठ या गांठ
  • थायरॉइड ग्रंथि की सूजन

 

हाइपोथायरायडिज्म के कारणों का उल्लेख नीचे किया गया है-

  • स्व - प्रतिरक्षी रोग
  • शरीर में आयोडीन की कमी
  • मधुमेह
  • पिट्यूटरी विकार
  • थायराइड की सर्जरी
  • थायराइड का आनुवंशिक या पारिवारिक इतिहास
  • कुछ बीमारियों की दवाएं
  • गर्भावस्था

 

थायराइड विकार की जटिलताओं क्या हैं?

थायराइड विकार शरीर में कई जटिलताएं पैदा करता है, उनमें से कुछ का उल्लेख नीचे किया गया है-

 

हाइपरथायरायडिज्म की जटिलताएं

  • हृदय की समस्याएं (तेजी से हृदय गति)
  • भंगुर या नाजुक हड्डियां (हड्डी कठोर हो जाती है लेकिन टूटना आसान हो जाता है)
  • आंखों की समस्याएं (दोहरी दृष्टि, प्रकाश संवेदनशीलता, दृष्टि की हानि)
  • स्ट्रोक का खतरा
  • त्वचा संबंधी जटिलताएं (त्वचा लाल हो जाती है)
  • उच्च बुखार
  • बेहोशी की हालत

 

हाइपोथायरायडिज्म की जटिलताओं

  • घेंघा
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल
  • हृदय की विफलता सहित हृदय की समस्याएं
  • अवसाद या चिंता
  • महिलाओं में बांझपन
  • नींद की समस्या
  • मोटापा या अधिक वजन
  • बाल झड़ना
  • जोड़ों का दर्द
  • चेहरे या शरीर पर कई धब्बे

 

थायराइड विकार के लक्षण क्या हैं?

थायराइड विकार में दो श्रेणियां शामिल हैं और दोनों प्रकार के थायराइड विकार में अलग-अलग लक्षण होते हैं:

हाइपरथायरायडिज्म के लक्षण:

  • अवांछित वजन घटाना
  • तीव्र हृदय गति
  • भूख में वृद्धि
  • घबराहट और चिंता
  • हाथों और उंगलियों का कांपना
  • गंभीर पसीना
  • महिलाओं में मासिक धर्म परिवर्तन
  • सोने में कठिनाई या अनिद्रा
  • थकान और कमजोरी
  • ऊष्मा असहिष्णुता
  • अत्यधिक भूख
  • बालों का झड़ना

 

हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण:

  • थकान और चक्कर आना
  • गर्मी के प्रति संवेदनशीलता
  • कब्ज सहित पेट की समस्याएं
  • त्वचा में सूखापन
  • अवांछित वजन बढ़ना
  • कमजोर पेशी
  • पतले बाल
  • घेंघा
  • डिप्रेशन
  • धीमी हृदय गति

 

थायराइड के लिए घरेलू उपचार

घर पर अपने थायराइड का इलाज करने के लिए थायराइड के लिए इन घरेलू उपचारों का पालन करें-

 

हाइपरथायरायडिज्म के लिए घरेलू उपचार

अगर आपको हाइपरथायरायडिज्म है तो नीचे बताए गए इन घरेलू उपचारों को अपनाएं-

 

हाइपरथायरायडिज्म का पहला घरेलू उपचार

 

सामग्री: पपीता, हल्दी, नींबू और अदरक

स्टेप 1: 1 कटोरी कच्चे छिलके वाले पपीते के टुकड़े लें।

चरण 2: एक चौथाई चम्मच हल्दी के साथ 1 चम्मच नींबू का रस लें

स्टेप 3: एक इंच कद्दूकस किया हुआ अदरक लें और सभी सामग्री को आधा कप पानी में मिला लें। ब्लेंडर का उपयोग करके इन सामग्रियों को ब्लेंड करें।

निर्देश: इस मिश्रण का रोजाना सुबह सेवन करें।

 

हाइपरथायरायडिज्म के लिए दूसरा घरेलू उपाय

 

सामग्री: आंवला (भारतीय आंवला), त्रिफला पाउडर, और शहद

Step 1: आंवले का अच्छा पेस्ट बना लें और आधा चम्मच आंवले का पेस्ट लें।

Step 2: आंवले के पेस्ट में आधा चम्मच त्रिफला चूर्ण और 2 चम्मच शहद मिलाएं।

निर्देश: इस मिश्रण का नियमित रूप से रोजाना सुबह नाश्ते से पहले सेवन करें।

 

हाइपरथायरायडिज्म का तीसरा घरेलू उपाय

 

सामग्री: आइस पैक

निर्देश: गले में सूजन के लिए कुछ देर के लिए आइस पैक को अपने गले पर रखें।

 

हाइपोथायरायडिज्म के घरेलू उपचार

हाइपोथायरायडिज्म होने पर अपनाएं ये घरेलू नुस्खे-

 

हाइपोथायरायडिज्म का पहला घरेलू उपाय

सामग्री: लौकी

Step 1: लौकी के सख्त छिलके को साफ करें और उसमें से बीज निकाल लें।

स्टेप 2: लौकी को ब्लेंड करें और जूस को गिलास में छान लें।

निर्देश: लौकी का रस नियमित रूप से सुबह के समय पियें।

 

हाइपोथायरायडिज्म के लिए दूसरा घरेलू उपाय

सामग्री: नारियल पानी

निर्देश: इस नारियल पानी को नियमित रूप से दिन में दो बार पिएं।

 

हाइपोथायरायडिज्म के लिए तीसरा घरेलू उपाय

सामग्री: अदरक और काली मिर्च

निर्देश: अदरक का रस या अदरक और काली मिर्च की चाय का नियमित रूप से दिन में कई बार सेवन करें।

Video

Our Products

Home Remedies

Get Rid of Itching problem